अधिगम एवं अर्जन

१. सीखना किसी स्थिति के प्रति ………. को
दर्शाता है।
(१) अभिक्रिया
(२) सक्रिय प्रतिक्रिया
(३) प्रक्रिया
(४) उपरोक्त में से कोई नहीं
२. ‘अधिगम’ के सन्दर्भ में कौन-सा कथन
सही नहीं है?
(१) व्यक्ति के सर्वांगीण विकास में सहायक
(२) ज्ञान के व्यावहारिक प्रयोग में सहायक
(३) विषय-वस्तु को रटकर याद करने में सहायक
(४) व्यक्ति के व्यवहार में परिवर्तन लाने में
सहायक
३. बच्चे विद्यालय आने से पहले
(१) भाषा के चारों कौशलों पर पूर्ण अधिकार
रखते हैं।
(२) अपनी भाषा की नियमबद्ध व्यवस्था की
व्यावहारिक कुशलता के साथ आते हैं।
(३) कोरी स्लेट होते हैं।
(४) भाषा का समुचित उपयोग करने में समर्थ नहीं
होते हैं।
४. बाल्यावस्था में किसी वस्तु तक पहुँचने, उसे
पहचानने, बिना किसी सहारे के खड़े होना
आदि किस प्रकार का अधिगम कहलाता है?
(१) संज्ञात्मक (२) क्रियात्मक
(३) विचारात्मक (४) वाचिक
५. संकेतों, चित्रों, शब्दों इत्यादि के माध्यम से
अधिगम किया जाता है
(१) क्रियात्मक अधिगम में
(२) शाब्दिक अधिगम में
(३) समस्या-समाधान अधिगम में
(४) उपरोक्त सभी
६. विचारात्मक अधिगम के अन्तर्गत
(१) क्रियात्मक कौशलों को अर्जित करते हैं।
(२) चित्रों, शब्दों इत्यादि के माध्यम से सीखते हैं।
(३) विभिन्न परिस्थितियों के साथ सामंजस्य
स्थापित करना सीखता है।
(४) बौद्धिक क्षमताओं का प्रयोग करते हैं।
७. भाषा ……… के साथ ……… का ही
परिणाम है।
(१) समाज, सामंजस्य (२) विद्यालय, सम्पर्क
(३) समाज, सम्पर्क (४) परिवेश, सामंजस्य
८. चॉम्स्की के अनुसार भाषा सीखने के क्रम में
…….. खोज भी साथ-साथ चलती रहती है।
(१) वैज्ञानिक (२) सामाजिक
(३) वाचिक तन्त्र की (४) व्यावहारिक
९. ‘‘आत्मसातीकरण और समायोजन के
माध्यम से बच्चा कई रूपरेखाओं का
निर्माण करता है।’’ यह विचार है
(१) वाइगोत्स्की का (२) चॉम्स्की का
(३) पियाजे का (४) पावलॉव का
१०. ‘‘बच्चा अपनी भाषा के दौरान दो प्रकार की
बोली बोलता है।’’ यह कथन किसका है?
(१) चॉम्स्की का (२) वाइगोत्स्की का
(३) पियाजे का (४) पावलोव का
११. भाषा अर्जन को प्रभावित करता है
(१) दैनिक जीवन अनुभव
(२) समाज के साथ सम्पर्क
(३) इच्छाशक्ति
(४) उपरोक्त सभी
१२. ‘‘भाषा का अस्तित्व एवं विकास समाज के
बाहर नहीं हो सकता।’’ यह कथन किसका है?
(१) चॉम्स्की का
(२) औरोरिन का
(३) वाइगोत्स्की का
(४) जीन पियाजे का
१३. भाषा सीखने के क्रम में बालक के अन्तर्गत
सर्वप्रथम किस अभिव्यक्ति का विकास
होता है?
(१) सांकेतिक (२) मौखिक
(३) लिखित (४) शिक्षण
१४. भाषा अर्जन में महत्त्वपूर्ण है
(१) भाषा के विभिन्न रूपों का प्रयोग
(२) भाषा का व्याकरण
(३) पाठ्य-पुस्तक
(४) भाषा का शिक्षण
१९० ण्ऊEऊ ु³ुदु ‘स्ड्डैं्नa ढर्प्Ýेंr ्रस्fस् E्श्च् ढारसस्ड्ड़
१.३.३ ाझ्रर््ें ्र॰ए्नस्a प्त्र् स् ढ्प्त्र् स्ु
त् बालक की भाषा के विकास में उस भाषा से सम्बन्धित शब्द तथा उनके
भण्डार का बड़ा-ही महत्त्वपूर्ण योगदान होता है। शब्दों से ही आगे जाकर
वाक्य बनते हैं और वाक्यों से भाषा के उस रूप का निर्माण होता है, जिसे
विचार तथा भावों के सम्प्रेषण और विनिमय के उपयोग में लाया जाता है।
मनोवैज्ञानिकों ने अपने प्रयोगों के आधार पर जो आँकड़े प्रस्तुत किए उनके
आधार पर बनी निम्नलिखित सारणी से विभिन्न अवस्था में बालकों के
शब्द भण्डार में धीरे-धीरे होने वाली वृद्धि का पता चलता है।
त् बालक जैसे ही ५ वर्ष की अवस्था के बाद विद्यालय जाने की आयु में
प्रवेश करता है एवं विद्यालय की शिक्षा ग्रहण करता है तो उसके शब्द
भण्डार में तेजी से वृद्धि होने लगती है। ९-११ वर्ष की आयु के बीच
बालक ५०,००० शब्द सीख लेता है। शब्दों की संख्या में वृद्धि होने के
साथ-साथ बालकों के शब्द भण्डार के विकास (अनत्दज्सहू दf
न्न्दम्aंल्त्arब्) में कई विशेषताएँ देखने को मिलती हैं।
त् बालकों के शब्द भण्डार में दो प्रकार के शब्दों का संकलन होता है। एक
तो वे शब्द जिन्हें बालक सक्रिय रूप से प्रयोग में लाता है तथा उनके अर्थ
को भली-भाँति समझता है तथा दूसरे वे शब्द जिनका प्रयोग वह स्वयं तो
नहीं करता, परन्तु जब वे दूसरों द्वारा बोले जाते हैं, तो उनका अर्थ वह
समझ लेता है।
त् बालकों के शब्दकोश में पहले वे शब्द आते हैं, जो उसकी शारीरिक
आवश्यकताओं को पूरा करें तथा बाद में वे आते हैं, जो उसकी
तात्कालिक मनोवैज्ञानिक आवश्यकताओं को पूरा करें। इन शब्दों का दायरा
पहले माँ-बाप तथा परिवार के वातावरण तक ही सीमित रहता है। बाद में
बालक जैसे-जैसे बड़ा होता है तथा अन्य लोगों के सम्पर्क में आता है,
विद्यालय जाना शुरू करता है तथा अन्य शैक्षिक एवं सामाजिक क्रियाओं
में भाग लेता है उसका यह शब्द भण्डार अपने और अपने परिवार तक ही
सीमित न रहकर अत्यधिक विस्तृत होता चला जाता है।
निम्न तालिका से बच्चे की शब्द संख्या सीखने की आयु ज्ञात की जा
सकती है
बालकों की आयु बालकों का शब्द भण्डार
जन्म से ८ माह तक ०
९ माह से १२ माह तक तीन से चार शब्द
डेढ़ वर्ष तक १० या १२ शब्द
२ वर्ष तक २७२ शब्द
ढाई वर्ष तक ४५० शब्द
३ वर्ष तक १ हजार शब्द
साढ़े तीन वर्ष तक १२५० शब्द
४ वर्ष तक १६०० शब्द
५ वर्ष तक २१०० शब्द
११ वर्ष तक ५०००० शब्द
१४ वर्ष तक ८०००० शब्द
१६ वर्ष से आगे १ लाख से अधिक शब्द
Aäास्ु र्ळैं
१५. बच्चे अपने परिवेश से स्वयं भाषा अर्जित
करते हैं। इसका एक निहितार्थ यह है कि
(१) बच्चों को अत्यन्त सरल भाषा का परिवेश
उपलब्ध कराया जाए।
(२) बच्चों को बिल्कुल भी भाषा न पढ़ाई जाए।
(३) बच्चों को समृद्ध भाषिक परिवेश उपलब्ध
कराया जाए।
(४) बच्चों को केवल लक्ष्य भाषा का ही परिवेश
उपलब्ध कराया जाए।
१६. भाषा सीखने का व्यवहारवादी दृष्टिकोण
……… पर बल देता है।
(१) अनुकरण
(२) रचनात्मकता
(३) भाषा प्रयोग
(४) अभिव्यक्ति
१७. वाइगोत्स्की के विचारों पर आधारित कक्षा
में ………. पर सर्वाधिक बल दिया
जाता है।
(१) कविता दोहराने
(२) कहानी सुनने
(३) कार्य पत्रकों
(४) परस्पर अन्त:क्रिया
१८. भाषा अर्जित करने की प्रक्रिया में किसका
महत्त्व सर्वाधिक है?
(१) भाषा कक्षा का
(२) भाषा प्रयोगशाला का
(३) पाठ्य-पुस्तक का
(४) समाज का
१९. भाषा अर्जित करने में वाइगोत्स्की ने किस
पर सर्वाधिक बल दिया है?
(१) भाषा की पाठ्य-पुस्तक पर
(२) समाज में होने वाले भाषा प्रयोगों पर
(३) परिवार में बोली जाने वाली भाषा पर
(४) कक्षा में बोली जाने वाली भाषा पर
२०. भाषा का अस्तित्व एवं विकास ……… के
बाहर नहीं हो सकता।
(१) परिवार
(२) साहित्य
(३) समाज
(४) विद्यालय
२१. प्राथमिक स्तर पर विद्यार्थियों के
भाषा-शिक्षण के सन्दर्भ में कौन-सा कथन
सही है?
(१) सतत् रूप से की जाने वाली टिप्पणियाँ एवं
अनवरत अभ्यास भाषा सीखने में रुचि उत्पन्न
करते हैं।
(२) बच्चे समृद्ध भाषिक परिवेश में सहज रूप से
स्वत: भाषा में सुधार कर सकते हैं।
(३) बच्चों की भाषायी संकल्पनाओं और विद्यालय
के भाषायी परिवेश में विरोधाभाषी भाषा
सीखने में सहायता करता है।
(४) बच्चे भाषा की जटिल और समृद्ध संरचनाओं
का ज्ञान विद्यालय में ही अर्जित करते हैं।
२२. प्राथमिक स्तर पर बच्चों की भाषा शिक्षा के
सन्दर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन
असत्य है? डण्ऊEऊ व्ल्ह २०११़
(१) सुधार के नाम पर की जाने वाली टिप्पणियों व
निरर्थक अभ्यास से बच्चों में अरुचि उत्पन्न हो
सकती है।
(२) बच्चे समृद्ध भाषा-परिवेश में सहज और स्वत:
रूप से भाषा में परिमार्जन कर लेंगे।
(३) बच्चे भाषा की जटिल और समृद्ध संरचनाओं
के साथ विद्यालय आते हैं।
(४) बच्चों की भाषा-संकल्पनाओं और विद्यालय में
प्रचलित भाषा परिवेश में विरोधाभास ही भाषा
सीखने में सहायक होता है।
२३. भाषा अर्जन और भाषा अधिगम के सन्दर्भ
में कौन-सा कथन सही नहीं है?
डण्ऊEऊ व्aह २०१२़
(१) सांस्कृतिक भिन्नता भाषा अर्जन और भाषा
अधिगम को प्रभावित करने वाला महत्त्वपूर्ण
कारक है।
(२) भाषा अर्जन में विभिन्न संकल्पनाएँ मातृभाषा में
बनती हैं।
(३) भाषा अर्जन में कभी भी अनुवाद का सहारा
नहीं लिया जाता।
(४) भाषा अर्जन सहज और स्वाभाविक होता है,
जबकि भाषा अधिगम प्रयासपूर्ण होता है।
२४. प्राथमिक स्तर पर ‘भाषा सिखाने’ से
तात्पर्य है डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१३़
(१) भाषा वैज्ञानिक तथ्य स्पष्ट करना
(२) भाषा का व्याकरण सिखाना
(३) उच्चस्तरीय साहित्य पढ़ाना
(४) भाषा का प्रयोग सिखाना
२५. कक्षा ‘एक’ के बच्चे अपने …….. एवं
…….. से प्राप्त बोलचाल की भाषा के
अनुभवों को लेकर ही विद्यालय आते हैं।
डण्ऊEऊ इां २०१४़
(१) घर-परिवार, पड़ोसी (२) घर-परिवार, परिवेश
(३) घर-परिवार, दोस्तों (४) घर-परिवार, टी.वी.
२६. चॉम्स्की के अनुसार कौन-सा कथन
सही है? डण्ऊEऊ एाज् २०१४़
(१) बच्चों में भाषा सीखने की जन्मजात क्षमता
होती है।
(२) बच्चों में भाषा सीखने की जन्मजात क्षमता नहीं
होती है।
(३) बच्चों में भाषा सीखने की क्षमताएँ बहुत सीमित
होती हैं।
(४) बच्चों को व्याकरण सिखाना आवश्यक है।
२७. भाषा अर्जन के सम्बन्ध में कौन-सा कथन
सत्य है? डण्ऊEऊ इां २०१५़
(१) भाषा सीखना एक उद्देश्य होता है।
(२) समाज-सांस्कृतिक परिवेश के अनुसार
अर्थ-ग्रहण की प्रक्रिया स्वाभाविक होती है।
(३) भाषा अर्जन में बच्चे को बहुत अधिक प्रयास
करना पड़ता है।
(४) भाषा अर्जन में किसी अन्य भाषा का व्याघात
होता है।
२८. विद्यालय के बाहर का जीवन और वहाँ से
प्राप्त ज्ञान एवं अनुभव सीखने के लिए
आवश्यक प्रेरणा देते हैं, क्योंकि
डण्ऊEऊ एाज् २०१५़
(१) मानक वर्तनी का सम्यक् ज्ञान मिलता है।
(२) लेखन की विभिन्न शैलियों का परिचय
मिलता है।
(३) समृद्ध भाषिक परिवेश मिलता है।
(४) इससे व्याकरणिक नियमों की जानकारी प्राप्त
होती है।
२९. ‘‘बच्चों के भाषायी विकास में समाज की
महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है।’’ यह विचार
किसका है? डण्ऊEऊ इां २०१६़
(१) पियाजे का (२) स्किनर का
(३) चॉम्स्की का (४) वाइगोत्स्की का
३०. संज्ञान के स्तर पर विकसित …….. अन्य
भाषाओं में सरलता से अनुदित होती
रहती है। डण्ऊEऊ एाज् २०१६़
(१) ज्ञान क्षमता (२) व्याकरण क्षमता
(३) तर्क क्षमता (४) भाषा क्षमता
३१. बच्चों के भाषा सीखने में सर्वाधिक
महत्त्वपूर्ण है डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१९़
(१) सुन्दर लिखना (२) मानक वर्तनी
(३) शुद्ध उच्चारण (४) बातचीत करना
३२. प्राथमिक स्तर पर भाषा सीखने-सिखाने का
अर्थ है डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१९़
(१) आलंकारिक भाषा का प्रयोग
(२) वर्णमाला सीखना
(३) भाषा का प्रभावी प्रयोग
(४) साहित्य की रचना
३३. ‘बच्चे सामाजिक अन्त:क्रिया से भाषा
सीखते हैं।’ यह विचार किसका है?
डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१९़
(१) पावलोव का
(२) वाइगोत्स्की का
(३) जीन पियाजे का
(४) स्किनर का
३४. भाषा सीखने और भाषा अर्जित करने में मुख्य
अन्तर का आधार है डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१९़
(१) साक्षरता (२) पाठ्य सामग्री
(३) भाषा-परिवेश (४) भाषा-आकलन
३५. किसी विषय को सीखने का मतलब है
उसकी ………. को सीखना, उसकी
………. को सीखना। डण्ऊEऊ अम् २०१९़
(१) अवधारणाओं, विषय-वस्तु
(२) विषय-वस्तु, उपयोगी
(३) अवधारणाओं, शब्दावली
(४) शब्दावली, विषय
Aह्रास १ : Aढभ्व्‘ E्श्च् Aध्द्मर््ैं १९१
ढ्व्न्न् ्fस़् ‘| हब्र्‍्नद व्E र्ळैं
३६. भाषा अधिगम में ‘बोधगम्य निवेश’ का क्या
अर्थ है? डण्ऊEऊ अम् २०२१़
(१) बच्चों को ऐसे भाषायी अवसर उपलब्ध कराना
जो उनकी भाषा से एक स्तर ऊपर हैं।
(२) बच्चों को लक्ष्य भाषा के अधिकतम अवसर
उपलब्ध कराना।
(३) कहानी सुनाने के माध्यम से भाषा अधिगम को
रोचक बनाना।
(४) कक्षा की दीवारों पर बच्चों की रचनाएँ प्रदर्शित
करना।
३७. निम्नलिखित में से विकास का निकटस्थ
क्षेत्र कहते हैं डण्ऊEऊ अम् २०२१़
(१) मस्तिष्क का वह भाग जो भाषायी विकास के
साथ कार्य करता है।
(२) बच्चे के वास्तविक विकास तथा किसी दूसरे
की सहायता से कर सकने वाले काम के बीच
का अन्तर।
(३) भाषा में प्रवाह जो बच्चे किशोरावस्था में
पहुँचने पर अर्जित करते हैं।
(४) दो बच्चों के बीच में भाषा अर्जन की निपुणता
में अन्तर।
३८. किसके द्वारा प्रस्तावित किया गया कि बच्चे
भाषा सीखने के लिए अनुकूलन तथा
समायोजन का प्रयोग करते हैं?
डण्ऊEऊ अम् २०२१़
(१) स्टीफन क्रेशन के (२) बी. एफ. स्किनर के
(३) जीन पियाजे के (४) नॉम चॉम्स्की के
३९. हिन्दी भाषा सीखने-सिखाने का दायरा इतना
बड़ा होना चाहिए कि ……….. से उसका
नाता न टूटे। डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) भाषा की परिभाषा (२) व्याकरण रटने
(३) व्याकरण सीखने (४) भाषा-प्रयोग
४०. पियाजे के अनुसार, भाषा अर्जन की
प्रक्रिया है डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) साहचर्यजन्य (२) सुमेलन
(३) युक्तिजन्य (४) सामाजिक
४१. स्टीफेन क्रेशन के अनुसार, कौन-सी
अचेतन प्रक्रिया है? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) सीखना (२) अर्जन
(३) सुनना (४) सम्प्रेषण
४२. पियाजे के अनुसार, भाषा का विकास
……….. से ……….. तक होता है।
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) निजी से व्यक्तिगत
(२) निजी से समाजीकृत
(३) आत्मकेन्द्रित से सामाजिक
(४) सामाजिक से आत्मकेन्द्रित
४३. वाइगोत्स्की के अनुसार जो बच्चे ………..
का व्यापक उपयोग करते हैं, वे अन्य बच्चों
की तुलना में जटिल कार्यों को अधिक
प्रभावी ढंग से सीखते हैं।
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) आन्तरिक भाषण (२) व्यक्तिगत भाषण
(३) निजी भाषण (४) मौन भाषण
४४. समग्र भाषा उपागम में भाषा अधिगम के
लिए एक उपकरण के रूप में क्या प्रयोग
किया जाता है? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) क्रिया (२) साहित्य
(३) बाल-कविताएँ (४) खिलौने
४५. भाषा को सर्वोत्तम तरीके से वैâसे सीख
सकते हैं? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) सन्दर्भों में
(२) पृथकता में
(३) वर्णमाला के क्रम में
(४) जब शब्द एक-एक करके प्रस्तुत किए जाए
४६. माध्यमिक स्तर पर भाषा अधिगम में
‘बोधगम्य निवेश’ क्या है?
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) शिक्षार्थी के स्तर से थोड़ा-सा ऊँचे स्तर
की प्रामाणिक पाठ्य सामग्री
(२) विजय तेंदुलकर के किसी नाटक का सार
संक्षेप
(३) शिक्षार्थी के स्तर से थोड़ा-सा नीचे के स्तर की
प्रामाणिक पाठ्य सामग्री
(४) शिक्षार्थियों के व्याकरणिक ज्ञान की अपनी
समझ के आधार पर अध्यापक द्वारा विकसित
कहानी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + nine =

error: Content is protected !!
Scroll to Top