भाषा बोध (सुनना, बोलना, पढ़ना एवं लिखना) में प्रवीणता का मूल्यांकन

१. आकलन
(१) केवल यह बताता है कि बच्चे ने क्या नहीं सीखा
(२) भाषा सीखने-सिखाने की प्रक्रिया का अभिन्न
अंग है
(३) पाठ-समाप्ति पर ही किया जाता है
(४) मूलत: शिक्षक-केन्द्रित ही होता है
२. हिन्दी भाषा में आकलन का उद्देश्य नहीं है
(१) बच्चों की भाषागत त्रुटियों की ही पहचान
करना
(२) बच्चों की भाषा प्रगति को अभिभावकों और
अन्य शिक्षकों को बताना
(३) भाषा सीखने के सन्दर्भ में प्रत्येक बच्चे की
विशेष आवश्यकता की पहचान करना
(४) भाषा सीखने-सिखाने की प्रक्रिया को उन्नत
बनाना
३. कौन-सा प्रश्न बच्चों की भाषा-क्षमता का
सही आकलन करेगा?
(१) लड़की ने किसके दाम नहीं बताए।
(२) लड़की टोकरी में क्या बेच रही थी?
(३) यदि तुम आम बेचोगे तो उसके कितने दाम
लोगे और क्यों?
(४) आजकल आम का दाम कितना है?
४. भाषा के सतत् और व्यापक मूल्यांकन का
उद्देश्य है
(१) बच्चों के सीखने की प्रक्रिया को समझकर
उपयुक्त शिक्षण अधिगम प्रक्रिया अपनाना
(२) अगली कक्षा में प्रोन्नत करने हेतु साक्ष्य जुटाना
(३) बच्चों की त्रुटियों की पहचान करना
(४) मूल्यांकन की परम्परा का निर्वाह करना
५. हिन्दी भाषा का मूल्यांकन करते समय आप
सबसे ज्यादा किसे महत्त्व देंगे?
(१) व्याकरणिक नियम
(२) सीखने की क्षमता का आकलन
(३) काव्य-सौन्दर्य
(४) निबन्ध लिखने की योग्यता
६. मूल्यांकन का प्रयोजन है
(१) बच्चों को डर के दबाव में अध्ययन के लिए
प्रेरित करना।
(२) बच्चों को धीमी गति से सीखने वाले,
होशियार, समस्यात्मक छात्र आदि वर्गों में
विभाजित करना।
(३) बालक के विकास के हर पक्ष का मूल्यांकन
करना।
(४) उन बच्चों को पहचानना जिन्हें उपचारात्मक
शिक्षण की आवश्यकता है।
७. सतत् और व्यापक मूल्यांकन मुख्य रूप से
…… पर बल देता।
(१) बच्चे के सुधार के लिए लगातार परीक्षण करने
(२) बच्चे के व्यवहार का सतत् अवलोकन करने
(३) मस्तिष्क, हृदय और हाथ की शिक्षा पर
(४) कमजोर अयोग्य विद्यार्थियों को उच्च स्तर
(अगली कक्षा) पर प्रोन्नत करने
८. सतत् और व्यापक मूल्यांकन की शुरुआत में
मूल्यांकन व्यवस्था को
(१) बच्चे के सम्पूर्ण व्यक्तित्व को ज्यादा प्रदर्शित
करने वाला बनाया है।
(२) बहुत अधिक विवरण को शामिल करते हुए
जटिल बनाया है।
(३) अस्पष्ट बनाया है, क्योंकि विद्यार्थी के निश्चित
रैंक को जाना नहीं जा सकता।
(४) केवल शैक्षणिक क्षेत्रों में निष्पादन का विश्लेषण
करने के लिए ज्यादा व्यापक बनाया है।
९. हिन्दी भाषा के सतत् और व्यापक
मूल्यांकन के सन्दर्भ में कौन-सा कथन
उचित नहीं है?
(१) यह बच्चे के सन्दर्भ में ही मूल्यांकन करता है।
(२) यह बच्चों को उत्तीर्ण-अनुत्तीर्ण श्रेणियों में
विभाजित करने में विश्वास रखता है।
(३) सतत् और व्यापक मूल्यांकन बच्चों की सीखने
की क्षमता और तरीके के बारे में जानकारी
देता है।
(४) यह बताता है कि बच्चों को किस तरह की
सहायता की आवश्यकता है।
१०. भाषा में सतत् और व्यापक आकलन का
उद्देश्य है
(१) वर्तनी की अशुद्धि के बिना लिखने की क्षमता
का आकलन
(२) भाषा के व्याकरण का आकलन करना
(३) भाषा के मौखिक और लिखित रूपों के प्रयोग
की क्षमता का आकलन
(४) पढ़कर समझने की क्षमता का आकलन
११. बच्चों की भाषा के आकलन का सर्वाधिक
प्रभावी तरीका है
(१) प्रश्नों के उत्तर देना
(२) प्रश्न पूछना और पढ़ी गई सामग्री पर प्रतिक्रिया
व्यक्त करना
(३) श्रुतलेख
(४) लिखित परीक्षा
१२. भाषा-आकलन में कौन-सा तत्त्व सर्वाधिक
महत्त्वपूर्ण है?
(१) सुलेख
(२) भाषिक संरचनाओं पर आधारित प्रश्न
(३) विविध अर्थ वाले प्रश्न पूछना
(४) श्रुतलेख
१३. हिन्दी भाषा में मूल्याकंन ……… के संचित
अभिलेखों में होना चाहिए
(१) विद्यार्थियों की उपस्थिति और चिकित्सा
रिकॉर्ड
(२) विद्यार्थियों द्वारा प्रदर्शित अनुशासनहीनता की
घटनाओं का रिकॉर्ड
(३) विद्यार्थियों की रुचियों, अभिक्षमता और
सामाजिक समायोजनों के प्रगतिशील विकास
का रिकॉर्ड
(४) किसी भी विशिष्ट दिन विद्यार्थियों के व्यवहार
का रिकॉर्ड
१४. प्रश्न पूछना, प्रतिक्रिया व्यक्त करना,
परिचर्या में भाग लेना, वर्णन करना
(१) भाषा आकलन के तरीके मात्र हैं।
(२) भाषा सीखने-सिखाने तथा आकलन के तरीके हैं।
(३) केवल शिक्षण पद्धति है।
(४) केवल साहित्यिक गतिविधियाँ हैं।
१५. सुनने और लिखने की कुशलता का
आकलन करने का सबसे अच्छा तरीका है
डण्ऊEऊ अम् २०१८़
(१) सुनी गई कहानी को शब्दश: लिखना
(२) कविता सुनना और शब्दश: लिखना
(३) कविता सुनकर प्रश्नों के उत्तर लिखना
(४) सुनी गई कहानी को अपने शब्दों में लिखना
१६. ‘पाठ्य-कुशलता’ का मूल्यांकन करने के
लिए आप क्या करेंगे?
(१) पढ़ी गई सामग्री पर तथ्यात्मक प्रश्न पूछेंगे
(२) पढ़ी गई सामग्री पर प्रश्न बनवाएँगे
(३) पुस्तक के किसी पाठ की पंक्तियाँ पढ़वाएँगे
(४) बच्चों से जोर-जोर से बोलकर पढ़ने के लिए
कहेंगे, जिससे उच्चारण की जाँच हो सके
१७. सुरभि अकसर ‘ड़’ वाले शब्दों को गलत तरीके
से उच्चारित करती है। आप क्या करेंगे?
(१) उसे ‘ड़’ वाले शब्दों की सूची पढ़ने एवं
लिखकर अभ्यास करने के लिए देंगे
(२) उसे ‘ड़’ वाले शब्दों को अपने पीछे-पीछे
दोहराने के लिए कहेंगे
(३) उसे सहजता के साथ अपनी बात कहने के
लिए प्रोत्साहित करेंगे
(४) उसे ‘ड़’ वाले शब्दों की सूचना पढ़ने एवं
बोलकर अभ्यास करने के लिए कहेंगे
१८. प्राथमिक स्तर पर बच्चों का पठन क्षमता
का आकलन करने में किस प्रकार की
सामग्री सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है?
(१) आतंकवाद पर आधारित निबन्ध
(२) बाल साहित्य की कोई संवादात्मक कहानी
(३) पाठ्य-पुस्तक
(४) औपचारिक पत्र
१९. बच्चों के ‘लेखन’ कौशल का मूल्यांकन
करने के लिए कौन-सी विधि बेहतर हो
सकती है? डण्ऊEऊ व्ल्ह २०११़
(१) सुन्दर लेख का अभ्यास
(२) अपने अनुभवों को लिखना
(३) श्रुतलेख
(४) पाठाधारित प्रश्नों के उत्तर लिखना
२०. गृह-कार्य का बारे में कौन-सा कथन
उचित है? डण्ऊEऊ व्aह २०१२़
(१) गृह-कार्य देना अति-आवश्यक है।
(२) गृह-कार्य अभिभावकों को व्यस्त रखने का
उत्तम साधन है।
(३) बच्चों की क्षमताओं, स्तर के अनुसार गृहकार्य
दिया जाना चाहिए।
(४) गृह-कार्य कक्षा में किए गए कार्य का
अभ्यास-मात्र है।
२१. बच्चों की भाषा-सम्बन्धी क्रमिक प्रगति का
लेखा-जोखा रखना ………. से सम्भव है।
(१) पोर्टफोलियो (२) उत्तर-पुस्तिकाओं
(३) लिखित परीक्षा (४) मौखिक परीक्षा
२२. बच्चों की मौखिक भाषा का सतत् आकलन
करने का सबसे बेहतर तरीका है
डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१३़
(१) शब्द पढ़वाना
(२) प्रश्नों के उत्तर पूछना
(३) विभिन्न सन्दर्भों में बातचीत
(४) सुने हुए को दोहराने के लिए कहना
२३. इनमें से प्राथमिक स्तर पर भाषा-आकलन
का सर्वाधिक उचित तरीका है
डण्ऊEऊ इां २०१४़
(१) किसी पाठ की पाँच पंक्तियाँ पढ़वाना
(२) बच्चों को चित्र-वर्णन और प्रश्न पूछने के
अवसर देना
(३) बच्चों से पत्र लिखवाना
(४) बच्चों से प्रश्नों के उत्तर लिखवाना
२४. भाषा में आकलन की प्रक्रिया
डण्ऊEऊ एाज् २०१४़
(१) पाठ के अन्त में दिए अभ्यासों के माध्यम से
होती है।
(२) सीखने-सिखाने के दौरान भी चलती है।
(३) केवल बच्चों का निष्पादन जानने के लिए
होती है।
(४) केवल शिक्षक का निष्पादन जानने के लिए
होती है।
२५. एक प्राथमिक शिक्षक के रूप में आप सतत
और व्यापक आकलन करते समय किसे
सर्वोपरि मानते हैं? डण्ऊEऊ इां २०१५़
(१) कठिन शब्दों का श्रुतलेखन
(२) लिखित प्रश्न-पत्र
(३) पाठ से देखकर सुलेख लिखना
(४) बच्चों द्वारा विभिन्न सन्दर्भों में भाषा-प्रयोग की
क्षमता
२६. प्राथमिक स्तर पर पढ़ने की क्षमता का
आकलन करने की दृष्टि से सबसे अधिक
महत्त्वपूर्ण है डण्ऊEऊ एाज् २०१५़
(१) विराम-चिह्नों का ज्ञान (२) पढ़ने में प्रवाह
(३) अर्थ का निर्माण (४) वर्णों की पहचान
२७. विद्यार्थियों का भाषायी विकास समग्रता से
हो सके, इसके लिए सबसे उपयुक्त
अनुशंसा होगी डण्ऊEऊ इां २०१६़
(१) शब्दकोश एवं विश्वकोष के प्रयोग की
(२) भाषा प्रयोग के विविध अवसरों की
(३) सतत् एवं व्यापक आकलन की
(४) सर्वोत्कृष्ट पाठ्य-पुस्तकों की
२८. अपने विद्यार्थियों के भाषा सम्बन्धी क्रमिक
विकास का आकलन करने के लिए आपकी
निर्भरता मुख्य रूप से किस पर है?
डण्ऊEऊ इां २०१६़
(१) पोर्टफोलियो के अवलोकन पर
(२) मौखिक कार्य करवाने पर
(३) गृह-कार्य की उत्तर-पुस्तिकाओं के अवलोकन पर
(४) कक्षा-कार्य के अवलोकन पर
२९. आकलन की प्रक्रिया में केवल बच्चे की
क्षमताओं का आकलन नहीं होता बल्कि
शिक्षक की शिक्षण-प्रक्रिया का भी आकलन
होता है। यह विचार डण्ऊEऊ अम् २०१९़
(१) पूर्णत: सही है (२) अंशत: सही है
(३) पूर्णत: गलत है (्) निराधार है
३०. प्राथमिक स्तर पर बच्चों की भाषा का
आकलन करने का उद्देश्य है
डण्ऊEऊ अम् २०१९़
(१) उसकी पठन क्षमता का आकलन
(२) उसके भाषा-प्रयोग की क्षमता का आकलन
(३) उसकी लेखन क्षमता का आकलन
(४) उसकी बोलने की कुशलता का आकलन
३१. निम्न में से कौन-सा प्रश्न बच्चों के
भाषा-आकलन की दृष्टि से सर्वाधिक
उपयोगी है? डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१९़
(१) ‘ईदगाह’ कहानी की मुख्य घटनाएँ बताइए
(२) ‘ईदगाह’ कहानी की मुख्य पात्र का नाम बताइए
(३) ‘ईदगाह’ कहानी को अपनी भाषा में सुनाइए
(४) ‘ईदगाह’ कहानी में हामिद ने क्या खरीदा?
३२. प्राथमिक स्तर की पाठ्य-पुस्तक में दिए गए
प्रश्न को ध्यान से पढ़िए
‘अगर तुम पापा की जगह होतीं तो ठेला
कहाँ लगातीं’ ऐसा तुमने क्यों तय किया?
यह प्रश्न किससे जुड़ा है?
डण्ऊEऊ व्aह २०२१़
(१) चिन्तन क्षमता के विस्तार से
(२) परिवार की जानकारी से
(३) विभिन्न व्यवसायों से
(४) अनुभवों की अभिव्यक्ति से
३३. हिन्दी भाषा का आकलन करते समय आप
किस बिन्दु को सर्वाधिक महत्त्व देंगे?
डण्ऊEऊ व्aह २०२१़
(१) भाषा की संरचना (२) व्याकरण सम्मत भाषा
(३) सहज अभिव्यक्ति (४) आलंकारिक भाषा
३४. योगात्मक आकलन का क्या उद्देश्य है?
डण्ऊEऊ अम् २०२१़
A. विभिन्न विद्यार्थियों में तुलना करना
ँ. शिक्षार्थियों पर बुद्धिमान, औसत अथवा
धीमी गति से सीखने वाले का ठप्पा
(लेबिंलग) लगाना
ण्. विद्यार्थी के अधिगम के विषय में सूचना
एकत्र करने के लिए विभिन्न तरीकों का
प्रयोग करना
D. साप्ताहिक आधार पर नियमित रूप से
कक्षा परीक्षा कराना
कूट
(१) A (२) ँ (३) ण् (४) D
३५. निम्नलिखित में से किस प्रकार के प्रश्न
शिक्षार्थियों की रचनात्मकता का आकलन
करने के लिए सहायक होंगे?
डण्ऊEऊ अम् २०२१़
A. एक शब्द वाले प्रश्न
ँ. खुले अन्त वाले प्रश्न
ण्. बहुवैकल्पिक प्रश्न
D. सत्य/असत्य प्रकार के प्रश्न
कूट
(१) A (२) ँ (३) ण् (४) D
३६. ‘वाशबैक’ शब्द सम्बन्धित है कि किस
प्रकार से कोई जाँच परीक्षण ………….।
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) कक्षा की शिक्षण सामग्री को प्रभावित करता है।
(२) शिक्षार्थियों की परीक्षाओं की तैयारी को
प्रभावित करता है।
(३) शिक्षार्थी के समूचे जीवन पर प्रभाव डालता है।
(४) भाषा विकास पर प्रभाव डालता है।
३७. पत्नी से : जल्दी करो, हमें देर हो जाएगी।
सहकर्मी से : जाने का समय हो गया है,
हमें बैठक के लिए देर हो जाएगी।
वरिष्ठ नियोक्ता से: महोदय, शाम के ४
बज गए हैं और बैठक ४:१५ बजे है, क्या
अब हमें चलना नहीं चाहिए?
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) शुद्धतावादी (२) स्तर भिन्नता
(३) रजिस्टर (४) मुहावरेदार
३८. एक अध्यापक कक्षा में समूह कार्य, जोड़ों
में कार्य और रोल प्ले करवाती है और
आकलन के लिए शिक्षार्थियों का अवलोकन
करती है।
आकलन सम्बन्धी इन गतिविधियों को क्या
कहा जाता है? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) वाचन आकलन
(२) कक्षाकक्ष आकलन
(३) संरचनात्मक आकलन
(४) संकल्पनात्मक आकलन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 − eleven =

error: Content is protected !!
Scroll to Top