भाषा के कार्य एवं इसके विकास में बोलने एवं सुनने की भूमिका

१. भाषा प्रयोग की कुशलता सम्भव है
(१) केवल साहित्य पढ़ने से
(२) भाषा की पाठ्य-पुस्तक पढ़ने से
(३) अधिक-से-अधिक भाषा प्रयोग से
(४) केवल भाषा सुनने से
२. भाषा एक …. विषय है।
(१) सैद्धान्तिक (२) व्यावहारिक
(३) नीरस (४) चुनौतीपूर्ण
३. भाषा की प्रकृति के सम्बन्ध में कौन-सा
कथन उचित नहीं है?
(१) भाषा कठोरता से व्याकरणिक नियमों का
अनुसरण करती है।
(२) भाषाएँ एक-दूसरे के सान्निध्य में फलती-फूलती हैं।
(३) भाषा एक नियमबद्ध व्यवस्था है।
(४) भाषा का जितना अधिक प्रयोग किया जाएगा,
उतनी ही भाषा पर पकड़ मजबूत होती जाएगी।
४. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य
नहीं है?
(१) वाणी अस्थायी होती है और लिखित भाषा की
तुलना में काफी तेजी से बदलती रहती है
(२) भाषा और लिपि के बीच सम्बन्ध नहीं होता है
(३) विश्व की सभी भाषाएँ थोड़े से फेरबदल से एक
ही लिपि में नहीं लिखी जा सकती हैं
(४) उपरोक्त सभी
५. सृजनात्मकता का विकास करने में कौन
सहायक नहीं है?
(१) कविता पूरी करना
(२) चित्र पर आधारित मौखिक अथवा लिखित वर्णन
(३) प्रश्नों के उत्तर देना
(४) अधूरी कहानी को पूरा करना
६. दैनिक कार्यों में मनुष्य किन दो कौशलों का
सर्वाधिक प्रयोग करता है?
(१) लेखन एवं भाषा कौशल
(२) श्रवण एवं पठन कौशल
(३) श्रवण एवं वाचन कौशल
(४) वाचन एवं लेखन कौशल
७. सुनना कौशल में शामिल है
(१) दूसरों की बात सुनने में रुचि, धैर्य और
प्रतिक्रिया
(२) प्रश्नों को ध्यानपूर्वक सुनने की क्षमता का विकास
(३) शान्तिपूर्वक सुनना
(४) सुने हुए शब्दों की केवल पुनरावृत्ति
८. सस्वर वाचन का मुख्य उद्देश्य है
(१) पढ़ने में आनन्द की अनुभूति करना
(२) बच्चों में पढ़ने सम्बन्धी झिझक को समाप्त
करना
(३) बोल-बोलकर पढ़ना
(४) द्रुत गति से वाचन करना
९. बच्चों के बोलना-सीखने के सन्दर्भ में
कौन-सा कथन सही है?
(१) सभी बच्चों की ‘बोलना’ सीखने की गति एक
समान होती है।
(२) बड़े परिवारों में बच्चों की ‘बोलना’ सीखने की
गति तेज होती है।
(३) निर्धन परिवारों से आए बच्चों की ‘बोलना’
सीखने की गति धीमी होती है।
(४) कहने-सुनने के अधिक-से-अधिक अवसर मिलने
पर बच्चे बोलना सरलता से सीखते हैं।
१०. ‘सुनना-बोलना’ कौशलों के विकास के लिए
सर्वोत्तम विधि कौन-सी हो सकती है?
(१) कहानी कहना और उस पर बच्चों की प्रतिक्रिया
जानना
(२) कविता याद करवाकर बुलवाना
(३) कक्षा के कुछ बच्चों द्वारा पाठ के अनुच्छेद
पढ़कर सुनाना
(४) अन्त्याक्षरी गतिविधि का आयोजन करना
११. विकास ने अपने क्षेत्र में आयोजित रंगारंग
कार्यक्रम के विषय में अपने मित्रों को
सुनाया। इस स्थिति में वह किस कौशल का
प्रयोग कर रहा है?
(१) भाषण कौशल (२) लेखन कौशल
(३) वाचन कौशल (४) श्रवण कौशल
Aäास्ु र्ळैं
१२. ‘बोलना’ कौशल में महत्त्वपूर्ण है
(१) मधुर वाणी डण्ऊEऊ व्ल्ह २०११़
(२) सन्दर्भ एवं स्थिति के अनुसार अपनी बात कह
सकना
(३) स्पष्ट एवं शुद्ध उच्चारण
(४) आलंकारिक भाषा का प्रयोग
१३. भाषा का प्रयोग डण्ऊEऊ र्‍दन् २०१२़
(१) जीवन के विभिन्न सन्दर्भों में होता है।
(२) केवल परीक्षा में होता है।
(३) केवल पाठ्य-पुस्तक में होता है।
(४) केवल मुद्रित सामग्री में होता है।
१४. भाषा स्वयं में डण्ऊEऊ र्‍दन् २०१२़
(१) एक जटिल चुनौती है।
(२) एक विषय मात्र है।
(३) सम्प्रेषण का एकमात्र साधन है।
(४) एक नियमबद्ध व्यवस्था है।
१५. भाषा ……………….. और ……………. का एक
उत्तम साधन है। डण्ऊEऊ इां २०१४़
(१) सुनने, बोलने, सोचने
(२) पढ़ने, लिखने, सम्प्रेषण
(३) सोचने, महसूस करने, चीजों से सुनने
(४) पढ़ने, लिखने, समझने
१६. प्राथमिक स्तर पर एक भाषा-शिक्षक से
सर्वाधिक अपेक्षित है डण्ऊEऊ एाज् २०१४़
(१) पाठ्य-पुस्तक में दी गई सभी कहानी-कविताओं
को कण्ठस्थ करना
(२) बच्चों को मानक भाषा का प्रयोग करना
सिखाना
(३) कक्षा और कक्षा के बाहर बच्चों को भाषा-प्रयोग
के लिए प्रोत्साहित करना
(४) बच्चों की निरन्तर परीक्षाएँ लेना
१७. भाषा-विकास के सम्बन्ध में कौन-सा कथन
सही है? डण्ऊEऊ इां २०१५़
(१) भाषा-विकास व्यक्ति निरपेक्ष है।
(२) बड़ों का सम्पर्क भाषा विकास की गति को तीव्र
कर देता है।
(३) भाषा विकास व्यक्ति सापेक्ष है।
(४) प्रारम्भिक भाषायी परिवेश की समृद्धता भाषायी
विकास में सहायक होती है।
१८. किसी भी भाषा पर अधिकार प्राप्त करने के
लिए सबसे महत्त्वपूर्ण है
डण्ऊEऊ एाज् २०१५़
(१) शब्दों के अर्थ जानना
(२) उस भाषा की वाक्य-संरचना जानना
(३) उस भाषा का अधिकाधिक प्रयोग करना
(४) उस भाषा का व्याकरण जानना
१९. प्राथमिक कक्षाओं में बच्चे बहुत कुछ लेकर
विद्यालय आते हैं, जैसे-अपनी ……………..
अपने अनुभव, दुनिया के देखने का अपना
दृष्टिकोण आदि।
(१) समस्याएँ (२) भाषा
(३) पाठ्य-पुस्तकें (४) कमियाँ
२०. प्राथमिक स्तर पर बच्चों की भाषायी
क्षमताओं का विकास करने का अर्थ है
(१) भाषिक संरचनाओं पर अधिकार
(२) भाषा-प्रयोग की कुशलता पर अधिकार
(३) भाषा-अनुकरण की कुशलता पर अधिकार
(४) भाषिक नियमों पर अधिकार
२१. पहली कक्षा की भाषा अध्यापिका अपने
एक विद्यार्थी के भाषायी विकास के सम्बन्ध
में चिन्तित है, क्योंकि
(१) विद्यार्थी पठन-पाठन में रुचि प्रदर्शित नहीं
करता है।
(२) विद्यार्थी को घर पर बात करने के बहुत कम
अवसर मिलते हैं।
(३) िवद्यार्थी के माता और पिता की मातृभाषा
अलग-अलग है।
(४) विद्यार्थी अपने साथियों से बहुत झगड़ता है।
२२. प्राथमिक कक्षाओं के भाषा-शिक्षक होने के
नाते आपकी सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण भूमिका है
डण्ऊEऊ एाज् २०१६़
(१) बच्चों की भाषायी क्षमता के विकास के लिए
तरह-तरह के अवसर जुटाना
(२) बच्चों को वाद-विवाद के लिए तैयार करना
(३) विद्यार्थियों को सर्वाधिक अंक प्राप्त करने के
लिए तैयार करना
(४) कक्षा में पाठ्य-पुस्तक का अच्छी तरह से
निर्वाह करना
२३. वाणी ……….. होती है और लिखित भाषा
की तुलना में काफी तेजी से बदलती
रहती है। डण्ऊEऊ एाज् २०१६़
(१) गौण (२) स्थिर
(३) अस्थायी (४) स्थायी
२४. प्राथमिक स्तर के बच्चों में भाषा-विकास
की दृष्टि से सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है
डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१६़
(१) पत्रिका (२) पाठ्य-पुस्तक
(३) समाचार-पत्र (४) बाल-साहित्य
२५. प्राथमिक स्तर की पाठ्य-पुस्तक में कार्टून,
भाषण, विज्ञापन आदि बच्चों के
भाषा-क्षमता विकास में ……….. है।
डण्ऊEऊ अम् २०१६़
(१) सहायक (२) बाधक
(३) निरर्थक (४) अनुपयोगी
२६. हम भाषा के माध्यम से ……….. और
……….. भी करते हैं। डण्ऊEऊ व्aह २०२१़
(१) चिन्तन, विचरण
(२) सोचते, महसूस
(३) सोचते, विचार
(४) अनुभव, महसूस
२७. कक्षा घ् का कबीर ‘शान्ति’ शब्द सुनकर
‘फान्ति’, ‘डान्ति’, ‘मान्ति’ जैसे निरर्थक
शब्द बोलकर मजे लेता है। यह प्रदर्शित
करता है कि डण्ऊEऊ अम् २०२१़
(१) उसने गलत संकल्पना विकसित कर ली है।
(२) वह ध्वन्यात्मक जागरुकता विकसित कर रहा है।
(३) उसे इस तथ्य को भूलने तथा दोबारा से सही
याद करने की आवश्यकता है।
(४) उसे स्वयं को सुधारने के लिए और अधिक
अभ्यास की आवश्यकता है।
२८. ‘बोली’ से क्या तात्पर्य है?
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) किसी एक क्षेत्र या सामाजिक समूह की वाचन
विशेषता।
(२) किसी एक क्षेत्र विशेष के लोगों द्वारा लेखन के
लिए प्रयोग की जा रही भाषा।
(३) किसी कार्य-विशेष से सम्बन्ध रखने वाले लोगों
की वाचन विशेषता।
(४) सत्ताधारी लोगों द्वारा प्रयोग की जा रही भाषा।
२९. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन भाषा के
बारे में सही है? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) यह व्यवस्थाओं की व्यवस्था है।
(२) यह व्यवस्थित है।
(३) यह नियमों तथा अपवादों का नियम है।
(४) यह अनेक विचारों का विचार है।
३०. एक बोली ‘मानक बोली’ का दर्जा पाने के
लिए निम्नलिखित चरणों से गुजरती है
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) चयन, संहिताकरण, उद्देश्य का निर्धारण
(२) चयन, स्वीकृति, संहिताकरण और उद्देश्यों
का निर्धारण
(३) चयन, उद्देश्यों का निर्धारण, संहिताकरण
और स्वीकृति
(४) चयन, स्वीकृति, संहिताकरण और उद्देश्यों
का निर्धारण
३१. बोली के सम्बन्ध में कथन (A) और कथन
(ँ) पर विचार करें। डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
कथन (A) किसी देश के एक हिस्से में
बोली जाने वाली विविध भाषाओं में से एक
प्रकार की भाषा जो क्षेत्रीय बोली के रूप में
जानी जाती है।
कथन (ँ) एक समान शैक्षिक पृष्ठभूमि
वाले लोगों द्वारा विविध प्रकार की उपयोग
की जाने वाली भाषा में एक प्रकार की
बोली के रूप में जानी जाती है।
कूट
(१) कथन (A) सही है परन्तु (ँ) गलत है।
(२) कथन (A) गलत है परन्तु (ँ) सही है।
(३) कथन (A) और (ँ) दोनों सही हैं।
(४) कथन (A) और (ँ) दोनों गलत हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + 7 =

error: Content is protected !!
Scroll to Top