शिक्षण सहायक सामग्री

१. कक्षा ४ में भाषा की अध्यापिका विद्यार्थियों
को पढ़ाते समय चलचित्रों का उपयोग करती
है, इसके पीछे उसका उद्देश्य है
(१) विद्यार्थियों के समक्ष तथ्यों को रोचकता के
साथ प्रस्तुत करना
(२) विद्यार्थियों को चलचित्र दिखना
(३) विद्यार्थियों को चलचित्र के विषय में बताना
(४) उपरोक्त सभी
२. शिक्षण सहायक सामग्री का/के लाभ है/हैं
(१) इससे पाठ अधिक सरल, रोचक तथा
मनोरंजक बन जाता है
(२) इसके प्रयोग से बालकों में पाठ के प्रति रुचि
का विकास होता है
(३) इसके प्रयोग से शिक्षण में कुशलता आती है
(४) उपरोक्त सभी
३. भाषा शिक्षण में पाठ्य-पुस्तक
(१) अनावश्यक है। (२)एकमात्र संसाधन है।
(३) साध्य है। (४) साधन है।
४. भाषा की पाठ्य-पुस्तक का निर्माण करते
समय सबसे कम महत्त्वपूर्ण बिन्दु है
(१) भाषा की विभिन्न छटाएँ
(२) अभ्यासों में वैविध्य
(३) पाठों की संख्या
(४) विषय-वस्तु में वैविध्य
५. पाठ्य-पुस्तक की भाषा
(१) बच्चों के घर व समुदाय की भाषा से
मिलती-जुलती होनी चाहिए।
(२) तत्सम प्रधान होनी चाहिए।
(३) तद्भव प्रधान होनी चाहिए।
(४) अधिकाधिक कठिन शब्दों से युक्त होनी चाहिए।
६. हिन्दी प्रयोग के विविध रूपों को जानने के
लिए सर्वाधिक उपयोगी साधन हो सकता है
(१) बाल साहित्य का विविध उपयोग
(२) शिक्षण की विधियों का सम्पूर्ण ज्ञान
(३) सुन्दर ढंग से छपी पुस्तकें
(४) उच्चस्तरीय लेखन-सामग्री
७. भाषा शिक्षण के संदर्भ में निम्नलिखित में
से कौन-सी पाठ्य-पुस्तकों की
उपयोगिता है?
(१) ज्ञान-प्राप्ति के लिए पुस्तकें सर्व सुलभ एवं
मितव्ययी साधन है
(२) पुस्तकें अर्जित ज्ञान का स्थायीकरण है
(३) छात्र व शिक्षक दोनों को ही पुस्तकों के माध्यम
से पाठ्यक्रम का ज्ञान रहता है
(४) उपरोक्त सभी
८. प्राथमिक स्तर पर पढ़ना सिखाने की शुरुआत
करने के लिए आप किस सामग्री को
सर्वाधिक महत्त्व देंगे? डण्ऊEऊ व्aह २०२१़
(१) शुद्ध उच्चारण (२) रोचक कहानी
(३) अक्षर-ज्ञान (४) वर्णमाला
९. प्राथमिक कक्षाओं में ‘रोल प्ले’ (भूमिका
निर्वाह) का उद्देश्य होना चाहिए
(१) बच्चों को अभिनय सिखाना
(२) एक पद्धति के रूप में इसका उपयोग करना
(३) विभिन्न सन्दर्भों में भाषा प्रयोग के अवसर
प्रदान करना
(४) बच्चों को अनुशासित रखना
१०. श्रव्य-दृश्य साधनों के प्रयोग का तर्काधार
इस तथ्य पर आधारित है कि
(१) इससे अध्यापन-अधिगम प्रक्रिया सुगम हो
जाती है।
(२) इससे अधिगम स्थूल हो जाता है।
(३) इससे हमारी दोनों इन्द्रियाँ सक्रिय हैं।
(४) यह मात्र किसी चीज को करने का दूसरा
तरीका है।
११. प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा सिखाने के
लिए सबसे अधिक आवश्यक है
डण्ऊEऊ अम् २०१८़
(१) कक्षा में लिखित आकलन
(२) भाषा-शिक्षक का भाषा-ज्ञान
(३) कक्षा में रंगीन पाठ्य-पुस्तकें
(४) कक्षा में प्रिण्ट समृद्ध परिवेश
१२. पाठ्यचर्या सहगामी क्रियाएँ; जैसे—गीत,
संवाद, अन्त्याक्षरी, भाषण, वाद-विवाद
आदि …. में सहायक है।
(१) भाषा और साहित्य को समझने
(२) अधिक अंक प्राप्त करने
(३) समय और श्रम की बचत करने
(४) शिक्षक के कार्यभार को कम करने
१३. पाठ्य-पुस्तक भाषा शिक्षण में मुख्यत: क्या
सहायता करती है?
(१) व्याकरणिक नियम कण्ठस्थ कराती है।
(२) भाषा की विभिन्न छटाएँ प्रस्तुत करती है।
(३) बच्चों का आकलन करती है।
(४) बच्चों को विभिन्न पर्वों की जानकारी देती है।
१४. भाषा की पाठ्य-पुस्तक के लिए पाठों का
चयन करते समय क्या सर्वाधिक
महत्त्वपूर्ण है?
(१) पाठों की संख्या
(२) प्रसिद्ध लेखकों की रचनाएँ
(३) ऐसे पाठ जो बच्चों के संवेदना लोक के साथी
बन सकें
(४) ऐसे पाठ जो अलंकारिक भाषा से युक्त हों
१५. पत्र-पत्रिकाएँ भाषा सीखने में
(१) त्रुटियों को बढ़ावा देती हैं।
(२) बड़ों के पढ़ने की वस्तु हैं।
(३) साधक हैं।
(४) बाधक हैं।
१६. बच्चों को बाल साहित्य उपलब्ध कराने से
क्या लाभ है?
(१) बच्चों को विविधतापूर्ण भाषिक सामग्री पढ़ने के
अवसर देना
(२) पात्रों का चरित्र-चित्रण करने की कुशलता का
विकास
(३) श्रवण-कौशल का विकास
(४) लेखकों से परिचय
१७. पाठ में दिए गए चित्रों का क्या उद्देश्य
होता है? डण्ऊEऊ व्ल्ह २०११़
(१) चित्र अमूर्त संकल्पनाओं को समझने में
सहायता करते हैं।
(२) चित्रों से पाठ्य-पुस्तक आकर्षक बनती हैं।
(३) चित्र पाठ की शोभा बढ़ाते हैं।
(४) पाठ्य-पुस्तक में चित्र देने का प्रचलन है।
१८. प्राथमिक स्तर पर भाषा की पाठ्य-पुस्तकों
में किस तरह की रचनाओं को स्थान दिया
जाना चाहिए? डण्ऊEऊ व्aह २०१२़
(१) केवल कहानियाँ अथवा कविताएँ
(२) विदेशी साहित्य की रचनाएँ
(३) ऐसी रचनाएँ जो बच्चों के परिवेश से जुड़ी हों
और जिनमें भाषा की अलग-अलग छटाएँ हों
(४) जो प्रत्यक्ष रूप से मूल्यों पर आधारित हों
१९. भाषा की पाठ्य-पुस्तकें डण्ऊEऊ र्‍दन् २०१२़
(१) भाषा सीखने का एकमात्र संस्थान हैं।
(२) अभ्यासपरक भी होनी चाहिए।
(३) साधन हैं।
(४) साध्य हैं।
२०. भाषा-कक्षा में विभिन्न दृश्य-श्रव्य साधनों
के उपयोग का उद्देश्य नहीं है
डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१३़
(१) आधुनिक तकनीक को कक्षा में लाना
(२) सभी प्रकार के बच्चों की आवश्यकताओं का
ध्यान रखना
(३) सीखने-सिखाने की प्रक्रिया को रुचिकर बनाना
(४) विद्यालय-प्रमुख के निर्देशों का पालन करना
२१. प्राथमिक स्तर पर बच्चों के लिए बाल
साहित्य के चयन का मुख्य आधार क्या
होना चाहिए? डण्ऊEऊ इां २०१४़
(१) छोटी रचनाएँ
(२) रोचक विषय-वस्तु
(३) रंगीन चित्र
(४) सरल जानकारी
२२. एक समावेशी कक्ष्ाा में भाषा-शिक्षक को
किस बिन्दु का सबसे अधिक ध्यान रखना
चाहिए? डण्ऊEऊ एाज् २०१४़
(१) सभी बच्चों को समान रूप से गृहकार्य देना
(२) सभी बच्चों को समान गतिविधि में शामिल होने
के लिए प्रोत्साहित करना
(३) सभी बच्चों से समान अपेक्षाएँ रखना
(४) विविध प्रकार की दृश्य-श्रव्य सामग्री का
उपयोग करना
ढ्व्न्न् ्fस़् ‘| हब्र्‍्नद व्E र्ळैं
Aäास्ु र्ळैं
२३. प्राथमिक स्तर की पाठ्य-पुस्तकों का निर्माण
करते समय आप किस बिन्दु पर विशेष
ध्यान देंगे? डण्ऊEऊ एाज् २०१४़
(१) प्रसिद्ध लेखकों की रचनाएँ शामिल हों
(२) हिन्दी भाषा के वैविध्यपूर्ण रूप शामिल हों
(३) उपदेशात्मक पाठ शामिल हो
(४) कहानियाँ अधिक-से-अधिक शामिल हों
२४. भाषा की पाठ्य-पुस्तक में सबसे महत्त्वपूर्ण
पक्ष है डण्ऊEऊ एाज् २०१५़
(१) आकर्षक चित्र
(२) पाठों का उद्देश्यपूर्ण चयन
(३) अभ्यासों की बहुलता
(४) कागज की गुणवत्ता
२५. प्राथमिक स्तर की हिन्दी भाषा की
पाठ्य-पुस्तक में आप किसे सर्वाधिक
महत्त्वपूर्ण मानते हैं? डण्ऊEऊ अम् २०१८़
(१) हिन्दी भाषा को विविध रूप देने वाली
रचनाओं को
(२) बहुत प्रसिद्ध लेखकों की प्रसिद्ध रचनाओं को
(३) नैतिक मूल्यों वाली कहानी-कविताओं को
(४) बहुतायत में दिए गए अभ्यास कार्य को
२६. प्राथमिक स्तर पर भाषा सीखने में भाषा
सम्बन्धी कौन-सा संसाधन सर्वाधिक
महत्त्वपूर्ण है? डण्ऊEऊ अम् २०१९़
(१) कम्प्यूटर (२) बाल साहित्य
(३) समाचार-पत्र (४) टेलीविजन
२७. प्राथमिक स्तर के बच्चों के लिए
पाठ्य-पुस्तक के निर्माण में आप सर्वाधिक
महत्त्वपूर्ण किसे मानते हैं?
डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१९़
(१) भाषा के विविध गद्य साहित्य को
(२) प्रसिद्ध लेखक को
(३) प्रसिद्ध रचनाओं को
(४) भाषा की विभिन्न रंगतों को
२८. भाषा सीखने-सिखाने में सर्वाधिक
महत्त्वपूर्ण है डण्ऊEऊ व्ल्त् २०१९़
(१) संचार माध्यमों का प्रयोग
(२) अभिभावकों का साक्षर होना
(३) भाग-शिक्षक का भाषा ज्ञान
(४) भाषा का समृद्ध परिवेश
२९. पाठ्य-पुस्तकों में रचनाएँ एक वातावरण
निर्मित करती हैं और अभ्यास प्रश्न उन्हें,
……….., उनसे गहराई से ………… और
व्यापक अनुभव-स्तर से ……….. का मौका
देते हैं। डण्ऊEऊ व्aह २०२१़
(१) परखने, जूझने, तादात्म्य
(२) जानने, परखने, जुड़ने
(३) परखने, जुड़ने, तादात्म्यक
(४) जानने, जूझने, जुड़ने
३०. एक पठन-सामग्री को बारीकी से पढ़ने का
क्या अर्थ है? डण्ऊEऊ अम् २०२१़
(१) पठन-सामग्री में है क्या, यह जानना
(२) पठन में रुचि उत्पन्न करना
(३) विशिष्ट सूचना ढूँढ़ना
(४) पठन-सामग्री की प्रामाणिकता जाँचना
३१. निम्नलिखित में से कौन-सा कक्षा में
‘मुद्रित/लिखित समृद्ध परिवेश’ के निर्माण में
सहायता नहीं करता है? डण्ऊEऊ अम् २०२१़
(१) दीवारों पर कहानियों के चार्ट लगाना
(२) कक्षा में पठन-कोना सृजित करना
(३) कक्षा में विद्यार्थियों की रचनाएँ प्रदर्शित करना
(४) कक्षा में खिलौनों का कोना बनाना
३२. कक्षा में दिए गए कार्य के रूप में कक्षा घ्घ्घ्
का गीत कुछ व्याकरणिक त्रुटियों के साथ
वाक्य लिखता है। निम्नलिखित में से
कौन-सी प्रक्रिया शिक्षक के द्वारा प्रयोग की
जा सकती है? डण्ऊEऊ अम् २०२१़
(१) गलतियों पर लाल पेन से घेरा बनाकर उसके
ऊपर सही रूप लिखना
(२) गलतियों पर घेरा बनाकर बच्चे को उसे सही
करने के लिए कहना
(३) गलतियों को रेखांकित करना, गलती की
प्रकृति लिखकर शिक्षार्थियों को उन्हें सुधारने
के लिए कहना
(४) बच्चे को प्रत्येक गलती पाँच बार सही तरीके
से लिखने के लिए कहना
३३. आप भाषा शिक्षक के रूप में पाठ्य-सामग्री
के किस स्वरूप को अपनाना चाहेंगे?
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) मूर्त विवरणात्मक और विश्लेषणात्मक
(२) अमूर्त विवरणात्मक और विश्लेषणात्मक
(३) मूर्त विवरणात्मक और अवधारणात्मक
(४) अमूर्त अवधारणात्मक और अवधारणात्मक
३४. किसी पाठ्य-सामग्री की ‘प्रामाणिकता’ से
क्या तात्पर्य है? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) शिक्षार्थियों के स्तर को ध्यान में रखते हुए
पाठ्य-पुस्तक के लेखकों द्वारा विकसित सामग्री
(२) मूलत: किसी एक सन्दर्भ विशेष से उपजी
सामग्री-जिसमें भाषा सहज रूप से प्रयुक्त हो
(३) भाषा में अधिकार रखने वालों द्वारा विकसित
पाठ्य सामग्री
(४) पाठ्य-पुस्तक के लेखकों द्वारा दूसरी भाषाओं
से अनुवाद
३५. शिक्षिका पाठ्य-पुस्तक से एक लड़की के
बारे में कहानी सुना रही है जो एक चिड़िया
की देखभाल करती है और उसे दाना
खिलाती है। अचानक से एक लड़का अली
खड़े होकर शिक्षिका को बताता है कि किस
तरह उसने एक दिन पार्क में घायल पड़ी
गिलहरी की रक्षा की। कहानी के प्रति अली
की प्रतिक्रिया को किस रूप में वर्णित किया
जा सकता है? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) पठन-सामग्री को अपने व्यक्तिगत अनुभव से
जोड़ना
(२) शिक्षिका को बीच में रोकना
(३) बोलने का अवसर मिलना तथा वह दिखाना
कि वह कक्षा में सक्रिय है
(४) उसकी कक्षा में ध्यान खींचने की प्रवृत्ति
३६. यदि शिक्षक विद्यार्थियों को शब्दावली
सीखने में मदद करना चाहते हैं, तो
निम्नलिखित में से कौन-सा तरीका सबसे
प्रभावशाली होगा? डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) कहानियों और चित्रों का प्रयोग
(२) दोहराव (ड्रिल) का प्रयोग
(३) लिखित अभ्यास का प्रयोग
(४) पाठ्य-पुस्तकों का उपयोग
३७. प्राथमिक स्तर पर भाषा सीखने-सिखाने में
बाल साहित्य सहायता करता है, क्योंकि
डण्ऊEऊ व्aह २०२२़
(१) वह भाषा की रंगतें प्रस्तुत करता है।
(२) वह बच्चों के लिए है।
(३) वह सरल होता है।
(४) वह रंगीन चित्रों वाला होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × one =

error: Content is protected !!
Scroll to Top