जैन धर्म

1. जैन धर्म के संस्थापक हैं –
(अ) आर्य सुधर्मा
(ब) महावीर स्वामी
(स) पार्श्वनाथ
(द) ऋषभ देव

View Solution


2. जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर कौन थे?
(अ) पार्श्वनाथ
(ब) ऋषभदेव
(स) महावीर
(द) चेतक
(य) त्रिशाल
View Solution


3. कुण्डलपुर जन्म स्थान है –

(अ) सम्राट अशोक का
(ब) गौतम बुद्ध का
(स) महावीर स्वामी का
(द) चैतन्य महाप्रभु का
View Solution


4. निग्रंथ किन्हें कहा जाता था?
(अ) जैनों को
(ब) बौद्धों को
(स) वैष्णववादियों को
(द) इनमें से किन्हीं को भी नहीं
View Solution


5. पूर्व किसके धार्मिक ग्रंथ हैं?
(अ) जैनों के
(ब) बौद्धों के
(स) सतनामियों के
(द) कबीरपंथियों के
View Solution


6. कथन(A): जैन धर्म के अहिंसा पर बल ने कृषकों को जैन धर्म अपनाने से रोका।
कारण (R): कृषि में कीटों एवं पीड़कों ही हत्या होना शामिल है।
कूट:
(अ) A और R दोनों सही है, और R, A का सही स्पष्टीकरण है।
(ब) A और R दोनों सही है, और R, A का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(स) A सही है, परन्तु R गलत है।
(द) A गलत है, परन्तु R सही है।
View Solution


7. “आजीवक” सम्प्रदाय के संस्थापक थे –
(अ) आनन्द
(ब) राहुलोभद्र
(स) मक्खलि गोशाल
(द) उपाली
View Solution


8. सत्य के अनेकान्त का सिद्धान्त किसका विशिष्ट लक्षण है?
(अ) आजीवक
(ब) बौद्ध धर्म
(स) जैन धर्म
(द) लोकायत
View Solution


9. स्याद्वाद सिद्धान्त है –
(अ) लोकायत धर्म का
(ब) शैव धर्म का
(स) जैन धर्म का
(द) वैष्णव धर्म का
View Solution


10. अनेकान्तवाद निम्नलिखित में से किसका क्रोड सिद्वान्त एवं दर्शन है?
(अ) बौद्ध मत
(ब) जैन मत
(स) सिख मत
(द) वैष्णव मत
View Solution


11. जैन साहित्यिक कृति परिशिष्ट पर्वन किस कृति का परिशिष्ट है?
(अ) मूल सूत्र
(ब) त्रिशष्टिशलाका पुरुष चरित
(स) उपनीति-भाव-प्रपंच कथा
(द) प्रबंध चिन्तामणि
View Solution


12. जैन आगम किस भाषा में लिखे गये हैं –
(अ) पाली
(ब) प्राकृत
(स) मागधी
(द) अवधी
View Solution


13. ऐसी मान्यता है कि जैनों के मूल आगम ……….. में थे –
(अ) 6 अंग
(ब) 8 अंग
(स) 10 अंग
(द) 12 अंग
View Solution


14. जैन धार्मिक ग्रन्थ अंगों का संकलन सर्वप्रथम किस संगीति के अन्तर्गत किया गया था?
(अ) वल्लभी
(ब) पाटलिपुत्र
(स) वैशाली
(द) मथुरा
View Solution

15. प्रारंभिक जैन साहित्य निम्नलिखित में से किस भाषा में लिखा गया था?
(अ) अर्ध-मागधी
(ब) पालि
(स) प्राकृत
(द) संस्कृत

View Solution


16. पाश्र्वनाथ की शिक्षाएँ संगृहीत रूप से जानी जाती है –
(अ) त्रिरत्न नाम से
(ब) पंच महाव्रत नाम से
(स) पंचशील नाम से
(द) चातुर्याम नाम से
View Solution


17. प्रारम्भिक जैन धर्म का इतिहास किस ग्रन्थ में मिलता है?
(अ) भगवतीसूत्र में
(ब) कल्पसूत्र में
(स) परिशिष्टपर्वन में
(द) उक्त सभी में
View Solution


18. जिस जैन ग्रंथ में तीर्थंकरों के जीवन-चरित हैं, उसका नाम हैं –
(अ) भगवतीसूत्र
(ब) उवासगदसाओ
(स) आदि पुराण
(द) कल्पसूत्र
View Solution


19. “कल्पसूत्र” का लेखक था –
(अ) सिमुक
(ब) पाणिनि
(स) भद्रबाहु
(द) पतंजलि
View Solution


20. किस संप्रदाय को प्रारंभ में निग्रन्थ कहा जाता था?
(अ) बौद्ध
(ब) जैन
(स) आजीविक
(द) पाशुपत
View Solution

error: Content is protected !!
Scroll to Top